Skip to main content

फेसबुक पर इश्क़ - facebook pr ishq

                      फेसबुक पर इश्क़

Ek Ladka - Ladki facebook pe mile kahi kisi k post pe..

Pehle like, fir comment pe..

Phir add as friend Karna :) aur Us Ladki Ka Request confirm Karna..

Phir Thodi Si Takraar Hui.. Jaane Anjaane Me Baat Hui..

Kabhi hasi kabhi mazak kabhi khatti meethi fariyad Hui..

Har Pal Us k liye online Rehna.. har pal uska intazaar karna..

wo notification TAG ka wo anjaani si Khushi Har baat ka..

Wo Gussa karne ka Alag Bahana.. wo uske Status Aur Pic Like NA krna.. Phir Jab Sab Thik Ho Jaye.. Chup K Se Pyara Sa Comment Karna..

Wo Kisi Ladke Ki OR Ladki Pic Pe Like Dekh K Jealouse Ho Jana..

Wo subah good morning kehna.. aur raato ko jag jag k good night kehna..

wo din me 10 baar uske msg ka wait karna.. aur msg padh k akele akele hasna..

Wo Number Exchange Karna.. Phir Wo Pyari Baate Karna..

Kabhi Gussa dikhana
To Kabhi Pyar Nibhana..

Shararat bhari shikayate krna
Fir sry bolte huye pyar se muskurana

Hum Milenge Ek Din ek dusre se ye kehte rehna..
       
              फेसबुक तो मेरी ज़िन्दगी का एक अहम्                        हिस्सा बन गया
              फ़ोन पर मिली तू मुझे और प्यार का एक नया                किस्सा बन गया

Phir Kuch Galat ho jana.. wo Shak Ka bich me aana.. wo jhagde , wo gussa.. wo us insaan ko BLOCK kar dena..

sari yaade mita dene ki nakam koshish krna ..

Uski yado me tadap ke rah jana ...
 har pal  har lamha ro rokar bitana..
 kisi frnd ke A/C se uski pics aur Activity dekhna...

Khud se use bhul jane ka bahana karna lekin bhul na pana..............


Sachhchi muhabbat ki adhuri si kahani 



Kaun Kehta Hai FACEBOOK pe pyar nahi hota.. Hota hai..

Par kbhi kbhi god us love story ka end shi se likhe nhi rhte hai na.........$

हैं कई ऐसे जो फेसबुक से सच्चा प्यार पाये ।
वही कुछ ऐसे भी है जो धोखेबाज यार पाये ।।

    मेरे इश्क़ की कहानी -- सुमित सोनी
Post a Comment

Popular posts from this blog

नारी है या लाचारी

नारी है या लाचारी


नारी का होना नारी
जैसे सबसे बड़ी लाचारी है ।
मानवता तो ख़त्म हो रही
दानवता सब पर भारी है ।

सर्वप्रथम तुम कोख में मारते
जो पता लगा की बच्ची है ।
आखिर क्यों नही तुम समझते
यही  संतान तुम्हारी सच्ची है ।

जो बच गई कोख में फिर भी
शोषणता इसकी जारी है ।
मानवता तो ख़त्म हो रही
दानवता  सब पर भारी है ।

उसका हंसना और मुस्कुराना
सब पे तुम्हारी पाबन्दी है ।
क्यों करते हो तुम आखिर ये सब
क्यों सोच तुम्हारी गन्दी है।

बेटियों को तुम कब तक
इस तरह छिपाओगे ।
आखिर कब तुम खुद चेतोगे
कब बेटों को समझाओगे ।


बेटियो को टोकने की बजाय
बेटो से  तुम ये कह जाओ ।
प्यारी है कोमल है ये बेटीयाँ
तुम बेटों इन्हें बचाओ ।
तुम बेटों इन्हें बचाओ- अपनी मानवता को दिखलाओ।


जब इन बेटों ने ही बढ़ कर
थाम ली जिम्मेदारी

तब से ना कभी रोयेगी
हमारी बिटिया रानी- हमारी बिटिया रानी



सुमित कुमार सोनी

Facebook- सुमित कुमार सोनी
Whatsapp-  9450489148
Instagram - Sumit soni
Twitter - Sumit soni

रूठी है जिंदगी .....

रूठी है जिंदगी .......





आज जिंदगी कुछ रूठी सी लग रही है
रात तो आधी बीत गई है 
पर आँखे मेरी अब भी जग रही है 
आज जिंदगी कुछ रूठी सी लग रही है


आंसुओ का दरिया आँखों से बह रहा
मेरे दिल से दर्द का लावा निकल रहा 
अब तो सांसे भी छूटी छूटी सी लग रही है 
आज जिंदगी कुछ रूठी सी लग रही है


लग रहा ये सफर अब थम ही जायेगा
ना वो अपना अब मेरे पास आएगा 
अब हर सच्ची कहानी भी झूठी सी लग रही 
आज जिंदगी कुछ रूठी सी लग रही है 


आकर थाम लो , तुम मेरे हाथ को 
तड़प रहा हूँ मैं अब तेरे साथ को 
अरमानो की दिल में चिता जल रही है
आज जिंदगी कुछ रूठी सी  लग रही है


               - सुमित सेठ
सुमित कुमार सोनी (फेसबुक)
.twitter

वो शख्श

अनजान रह गया वो
शख्श जिंदगी में  जिसने औरो की फिक्र में  जिंदगी गुजार दी ।।
गरीब रह गया वो  शख्श जिंदगी में जिसने औरो की जरुरत पर अपनी उधार दी ।।
वो तो मिटता रहा  लोगो की खुशियों पर लोगो ने मिल कर  उसकी दुनिया उजाड़ दी ।।
वो तो लगाता रहा उम्र भर चाहत के फूल  लोगो ने मिलकर  उसकी बगिया ही उजाड़ दी ।।
फैलता रहा वो हरदम  प्रकाश सबके जीवन में सबने मिलकर उसकी जिंदगी  घुप्प अंधेरो में पाट दी ।।       आपका मित्र - सुमित सोनी