Skip to main content

खुला खत - 1 (शोहदों के नाम )

एक खुला ख़त तमाम शोहदों के नाम


नमस्कार ,

                समझ नहीं आता की कैसे और कहाँ से शुरू करूँ , आखिरकार आप लोगों की करस्तानियाँ ही ऐसी हैं ।

आप कॉलेजों के बाहर , गलियों के मुहानो पर तथा नुक्कड़ों पर मिलने वाले वही महान विभूतियाँ है जो लड़कियों का जीना हराम कर देते हैं ।

                  यूँ ही आवारागर्दी करते करते आप को कोई भोली भाली सी लड़की पसंद आ जाती है, कुछ दिनों तक आप उसे राह चलते देख देख कर आँख सेकते हैं(आपकी भाषा में) ,  फिर उस लड़की का नाम पता करते हैं , अब आप उस लड़की से ना जाने किस सस्ते टाइप का प्यार करने लगते है जिसके मूल में देहाकर्षण ही होता है परंतु आप इसे सच्चे प्यार का नाम देते है और आप अब उस लड़की को पाने के लिए जमीन आसमान एक करने लगते हैं अपने दोस्तों वगैरह से बताते फिरते हैं सिवाय उस लड़की को बताने के !!!!


एक दिन वो भी आता है की आप अपने दोस्तों की बात मान लेते है और  बहुत हिम्मत करके अपना हाल ए दिल उस लड़की को बता देते हैं परंतु यह क्या ..............?

वो लड़की आप से प्यार करने से इन्कार कर देती है।


अब आपके अहंकार को ठेस पंहुचता है , आप सोचते है की उस लड़की की इतनी हिम्मत कैसे हुई की उसने आपको ना बोल दिया , आखिर उसने इंकार किया भी तो कैसे ?

आप सोचे भी क्यों नही, आखिर में आप तो उस लड़की को अपने बाप की जागीर समझते है की आप को वो पसन्द आई तो वो आपकी बात माने ही माने । आप तो उसे बाजार में मिलने वाली कोई वास्तु समझते हैं की अगर माल पसन्द आया तो बस दाम चुकता किया और माल लेकर चल दिए मगर अफ़सोस की इस बार तो आपको कोई ऐसा पसन्द आगया है जो किसी बाजार में मिलता ही नही तो आपको कैसे मिले ?


अब आपको बहुत गुस्सा आता है जिसके कारण आपके शैतानी दिमाग में यह विचार आता है की जब वो लड़की आप की ना हुई तो आप उसे किसी और की भी नही होने देंगे और यहीं पर एक गंभीर किस्म की आपराधिक भावना आपके मन मंदिर में जन्म ले लेती है और आप तेजाब द्वारा उस लड़की के सुंदर तन और उस से भी सुन्दर मन को जला देने की योजना बना डालते है या फिर किसी अन्य आपराधिक विधि द्वारा उस लड़की पर हमला कर के उसके गुरुर को तोड़ने का प्रयत्न करना चाहते हैं जबकि हकीकत तो कुछ और ही होती है ।

ये गुरुर उस कोमल हृदया के मन में ना होकर आपके हृदय में होता है जिसका साक्षात् प्रमाण आपके उसे आघात पँहुचाने के विचार ही है ।


चलिए एक बार आप उस लड़की के स्थान पर अपनी बहन को रख कर सोचिये या फिर आप ये कल्पना कीजिये की अगर कभी ऐसा हो की आप ही वो लड़की हैं और कोई अंजान सा आवारा लड़का आकर आपसे अपने प्रणय निवेदन का विचार कहे और जबरदस्ती आपसे प्रेम का रिश्ता बनाने को कहे तो आप को उस वक्त कैसा महसूस होगा , क्या आप उस लड़के के प्रेम निवेदन की बात मान लेंगे ?

नहीं ना , सोचिये जब आप नही मान सकते तो और कोई कैसे मानेगा ?

नफरत तो होगी ही ना ऐसे लोगो से , बस यही भावना उस लड़की के मन में भी आ जाती है जब आप उसके साथ जबरदस्ती प्यार का बर्ताव करते हैं ।


चलिए , उठिए, अपने इस झूठे प्रेम की बावड़ी से बाहर निकलिये , अपनी वासना और जिद को अपने मन मंदिर से निकाल के दूर फेंकिए और अपने समय और शक्ति का सदुपयोग कर के अपने आपको एक ऐसी शख्शियत बनाइये की जो लड़की आज आपको अस्वीकार कर गई है वो कल को अपने फैसले पर पछताए और और आपको पाने का सपना देखे ।और आपको लोगों के सामने शर्म से सर ना झुकाना पड़े , लोग आपकी नजीर दें ।


उम्मीद है की आगे से आप के द्वारा अपने झूठे प्रेम के लिए किसी लड़की को डराया नहीं दिया जायेगा उनके पंख को कतरा नही जायेगा और उन्हें उन्मुक्त गगन में स्वच्छंद विचरण करने दिया जायेगा ।



                                         धन्यवाद

                                   सुमित कुमार सोनी
Facebook -  Sumit soni
Instagram - Sumit soni
Twitter -      Sumit soni
Post a Comment

Popular posts from this blog

संतुष्टि

संतुष्टि         
एक नई प्रेमकहानी लिख रहा था लेकिन घर में शोर कुछ ज्यादा ही था, तो मैं डायरी लेकर अपने दोस्त ऋतिक के कैफ़े में चला गया , ऋतिक कैफ़े में नहीं था तो मैंने खुद ही काउंटर पर कॉफी के लिए बोला और सबसे कोने वाली एक टेबल पर अपना अड्डा जमा लिया जहाँ हम दोस्त अक्सर ही बैठा करते थे।
अचानक कुछ खयालों की तरंगे मन में उठीं तो मैं अपनी डायरी में उन्हें सहेजने लगा तभी वहाँ का स्टाफ महेश आया और बोला की भैया यहाँ इनको भी बैठा दूँ , कोई दिक्कत तो नहीं है ना , देखिये ना आज वैलेंटाइन के चलते भीड़ बहुत है तो कोई सीट खाली नहीं है।
मैंने बिना ऊपर देखे ही हाँ में जवाब दिया और बोला की अरे यार महेश मेरी कॉफी भी रखता जा , कब से इन्तजार कर रहा हूँ।
लगभग 5 मिनट बीत चुके थे , अचानक से एक प्यारी सी आवाज कानों में मिश्री घोलने लगी , अरे आपकी काफी ठंडी हो रही है मिस्टर ....!!
सुनते ही दिल मचल गया , नजरें सामने की चेयर पर बैठे खूबसूरत चेहरे पर जो टिकी तो टिकी ही रह गई , क्या खूबसूरती थी रेशमी बाल, कटारी जैसे नैन, नाक में नथ और गुलाब से गुलाबी होठ ......उफ्फ ...!!
तभी वो फिर बोल पड़ी - बड़े अजीब हैं आप , बार…

प्रेम पत्र - love later

प्रेमपत्र

सुनो ,
            जब मैंने तुम्हे पहली बार देखा था न तभी से तुम मेरे जेहन में बस गई हो सोते जागते हँसते रोते खाते पीते समय , यानी की हर समय मुझे तुम्हारी ही प्यारी सी सूरत दिखाई देती है

जब से नजरो में आई हो 
तुम तो दिल में छाई हो 
हो गया हूँ जैसे बेबस मैं 
तुम तो मेरी जिंदगी में समाई हो ।

वही झील सी आँखे वही नदियो के मुहाने से खूबसूरत होंठ प्यारी सी नाक भोला भाला और सबसे अच्छा वाला चेहरा और इस चेहरे पर लटकती हुई तुम्हारी ये लटें जिन्हें तुम अपने हांथो की अँगुलियों से बार बार उठाकर कान के पीछे फंसा देती हो और ये है की किसी बदमाश की तरह फिर से तुम्हारे कोमल से गालों पर तुम्हे छेड़ने के लिए आ जाते है ।

झील सी आँखे और गुलाबी गाल देखूं
रब का बनाया एकशक्शकमाल देखूं
जो तू नहीं तो शायदगरीब हो जाऊं
और तू मिले तो मैं मालामाल हो जाऊँ

ना जाने क्यों मैं चाह कर भी कुछ और अलग नही सोच पाता हूँ कई बार मैंने कोशिश भी की मैं तुम्हारे बारे में ना सोच कर कुछ और सोचूँ या फिर किसी और को याद करूँ पर नहीं यार कुछ समझ ही नही आता की अब ये मेरा दिल मेरी ही बात क्यों नही मान रहा है मुझसे ही बेवफाई क्यों कर रहा है ऐ…

राष्ट्रप्रेम

राष्ट्रप्रेम


”जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ।”

अर्थात्

मनुष्य ही नहीं वरन् चर-अचर, पशु-पक्षी सभी अपनी मातृभूमि से प्यार करते हैं ।


राष्ट्रप्रेम - राष्ट्र के प्रति सम्मान भाव रखना ,सदैव राष्ट्रहित में तत्पर रहना राष्ट्रप्रेम कहलाता है ।

राष्ट्र प्रेम हमारे अंदर की वो भावना है जो हमें अपने राष्ट्र के प्रति कृतज्ञ बनाती है , इसी भावना तथा श्रद्धा के कारण ही बहुत से वीर मातृभूमि के लिए प्राण भी दे चुके है और बहुत से वीर जवान अभी जज्बा भी रखते है ।


राष्ट्रप्रेम का अर्थ सिर्फ यह नही है की हम सीमा पर जाकर दुश्मन देशों से युद्ध कर के ही प्रेम जताए , स्थान से ज्यादा हमारा भाव महत्त्व रखता है हम युद्ध के अलावा नित्यप्रति भी अपने कर्मों से राष्ट्रप्रेम कर सकते है लेकिन याद रखें की हमे सिर्फ राष्ट्र प्रेम करने की आवश्यकता है , राष्ट्रप्रेम करते हुए दिखावा करने की नहीं ।



शायद आप लोगों ने भी अपने बचपन में स्वामी रामतीर्थ के जापान यात्रा के दौरान घटित हुए प्रसंग को पढ़ा होगा , जब स्वामी रामतीर्थ एक रेलवे स्टेशन पर अच्छे फलों की तलाश में थे और उन्होंने कहा की शायद यहां अच्छे फल मिलते ही नही तो एक ज…