Friday, 5 August 2016

मेरी कायनात हो

             " मेरी कायनात हो "

जैसे की तुम मेरी
            सारी कायनात हो
हर पल मेरे लबो पे
             तेरी ही बात हो
तू ही दिखे मुझको
              दिन हो या रात हो
चाहूँगा मैं यही की
              हर पल तेरा साथ हो
लगता है जैसे तुम
              मेरे रब की सौगात हो

क्योंकि तुम ही तो मेरी
               सारी कायनात हो

आपका दोस्त - सुमित सोनी
Post a Comment