Thursday, 28 January 2016

मुस्कुराया जाये - muskuraya jaye

                   थोडा मुस्कुराया जाये

चलो आज फिर
थोडा मुस्कुराया जाये

जलने वालो को बिना
माचिस के जलाया जाये

लोगो को अपनी
 खुशियाँ दिखाया जाये

चलो आज फिर
थोडा मुस्कुराया जाये

आग दुश्मन के दिल में
 फिर से लगाया जाये

जलने वालो को बिना
 माचिस के जलाया जाये

चलो आज फिर
थोडा मुस्कुराया जाये

दिन को अपने आज और
खुशनुमा बनाया जाये

चलो आज फिर
थोडा मुस्कुराया जाये।

आपका दोस्त -- सुमित सोनी
Post a Comment