Tuesday, 26 January 2016

वो शख्श


अनजान रह गया वो
शख्श जिंदगी में 
जिसने औरो की फिक्र में 
जिंदगी गुजार दी ।।

गरीब रह गया वो 
शख्श जिंदगी में
जिसने औरो की जरुरत पर
अपनी उधार दी ।।

वो तो मिटता रहा 
लोगो की खुशियों पर
लोगो ने मिल कर 
उसकी दुनिया उजाड़ दी ।।

वो तो लगाता रहा
उम्र भर चाहत के फूल 
लोगो ने मिलकर 
उसकी बगिया ही उजाड़ दी ।।

फैलता रहा वो हरदम 
प्रकाश सबके जीवन में
सबने मिलकर उसकी जिंदगी 
घुप्प अंधेरो में पाट दी ।।
      
      आपका मित्र - सुमित सोनी

Post a Comment